You could put your verification ID in a comment Or, in its own meta tag

Sunday, 3 March 2013

Anudeshak Recruitment in uttar pradesh


आज केस की सुनवाई समयाभाव के कारण
नहीँ हो सकी और रिज्वाइन्डर भी नहीँ दाखिल
हुआ। अगली सुनवाई की तिथि-06/03/2013

Anudhsak requirment, uptet latest news, tet groups : This is a blog of uttar pradesh Anudeshak Recruitment in UP : संशोधित --बदली योग्यता से अनुदेशकों भर्ती पर संकट
-वर्ष 2011 के विज्ञापन में अलग योग्यता को बनाया गया था आधार
- अस्थाई नियुक्त अनुदेशक व अन्य हाईकोर्ट की शरण में


इलाहाबाद : प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती के बाद अब 41,307 अंशकालिक अनुदेशकों की भर्ती पर भी संकट के बादल मंडराते नजर आ रहे हैं। प्रदेश सरकार ने इस भर्ती के लिए योग्यता के मानकों में परिवर्तन कर दिया है। इसके चलते पूर्व में अस्थाई रूप से नियुक्त अनुदेशक व इस पद के लिए प्रयासरत हजारों अन्य अभ्यर्थी भर्ती प्रक्रिया से बाहर हो गए हैं। यह सभी लगातार उच्चाधिकारियों के पास गुहार लगाते रहे पर अब तक इनकी सुनवाई नहीं हुई है। इसके चलते अब यह अभ्यर्थी उच्च न्यायालय की शरण में जा रहे हैं।

प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती के लिए सात फरवरी को शुरू हुई काउंसिलिंग उच्च न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद पहले ही रोकी जा चुकी है। अब अनुदेशकों का मामला भी अदालत जाने को तैयार हैं। गड़बड़ी की जड़ में अनुदेशक भर्ती के लिए जारी शैक्षिक योग्यता है। इस बार जारी विज्ञापन में प्रदेश के 13769 विद्यालयों में कुल 41307 अंशकालिक अनुदेशकों की भर्ती के लिए 23 मार्च तक ऑनलाइन आवेदन मांगे गए हैं।

इस भर्ती प्रक्रिया में अनुदेशक के लिए बीएससी कृषि के साथ फल संरक्षण में डिप्लोमा होना अनिवार्य रखा गया है। इससे पूर्व 24 अगस्त 2011 को बीएसए, इलाहाबाद ने अंशकालिक अनुदेशक का जो विज्ञापन जारी किया था उसमें खाद्य एवं फल संरक्षण को एक अलग ट्रेड बनाया था। इसके लिए डिप्लोमा होना अनिवार्य था। बीएससी कृषि की बाध्यता नहीं थी।

अभ्यर्थियों के अनुसार शैक्षिक योग्यता में इस परिवर्तन से फल संरक्षण व अन्य विधाओं में डिप्लोमा करने वाले दूसरे विषयों के स्नातक छात्र वंचित हो जा रहे हैं। साथ ही पिछले वर्ष नियुक्त अंशकालिक अनुदेशकों को भी अब इसमें अवसर नहीं मिलने जा रहा है। फिलहाल, अभ्यर्थियों ने उच्चाधिकारियों द्वारा सुनवाई न होने पर उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाने का मन बनाया है। उनके अनुसार सोमवार को इस मामले में अपील फाइल हो जाएगी। इसमें उम्र सीमा भी लोक सेवा आयोग की तर्ज पर बढ़ा कर 40 वर्ष करने की मांग की जा रही है।

18 तक कराएं पंजीकरण

अभ्यर्थी 18 मार्च तक डब्ल्युडब्ल्युडब्ल्यु डॉट यूपीबेसिकइडीयूपरिषद डॉट जीओवी डॉट इन पर पंजीकरण करा सकते हैं। पंजीकरण के बाद दूसरे दिन दो बजे से चालान और उसके दो दिन बाद आवेदन किया जा सकेगा। 21 मार्च तक चालान जमा होंगे और 23 मार्च तक आवेदन स्वीकार किए जाएंगे। अभ्यर्थी को अपने ही जिले में आवेदन करने की छूट दी जा रही है।

नहीं लिया सबक


बेसिक शिक्षा परिषद ने प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती के दौरान आई समस्या से कोई सबक नहीं लिया है। भर्ती के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया सहज होने के बजाय मुसीबत का सबब बनती जा रही है। चालान जमा करने के लिए बैंकों में उमड़ने वाली भीड़ से बचने के लिए अभ्यर्थियों की ऑनलाइन भुगतान की मांग पर भी कोई विचार नहीं किया गया। आवेदन के लिए केवल एक वेबलिंक उपलब्ध होने के चलते दिन में कई बार वेबसाइट बंद हो जाने और सर्वर जाम की समस्या आ रही